सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

महत्वाकांक्षाओं ने बचपन को भी रियल से रील बना दिया है, क्यों? (1 जून, बाल सुरक्षा दिवस पर विशेष)

बचपन! जीवन की सबसे सुनहरी अवस्था। एकदम अलमस्त...चिंता-फिकर, राग-द्वेष, हार-जीत से दूर। लेकिन आज?...बचपन के मायने बदल गए हैं। अब बचपन यानी...प्रतिस्पर्धा, प्रतियोगिता, स्टेज और स्टेज की धमक और चमक।
आज अनजाने में मां बाप ही बच्चों का बचपन छीन रहे हैं, समाज में अपनी नाक ऊंची रखने की होड़ में बच्चे उनकी महत्वाकांक्षाओं के बीच मोहरा बनकर रह गये हैं। हर दिन, हर घंटे टीवी चैनलों पर प्रसारित होते रियलिटी शोज ने बच्चों का बचपन भी रियल से रील बना दिया है।...और इस रील के डायरेक्टर बन बैठे हैं उनके अपने मां-बाप, जो छोटे-छोटे बच्चों को लेकर घंटों आॅडिशन के लिए बैठे रहते हैं। कई बार तो कड़ी धूप में सुबह से शाम और फिर शाम से रात कर दी जाती है। कोई नहीं पूछता कि बच्चे ने कहाँ लघुशंका की, कहाँ खाया-पिया। जिन्हें देखभाल करनी चाहिए, वे खुद ही बच्चों को सताते हैं तो दूसरे कहां तक ख्याल रख सकते हैं। लेकिन इससे भी अहम बात यह है कि इन रियलिटी शोज तक पहुंचने के लिए, यानी उसकी तैयारी करने तक उन बच्चों पर कितना कहर बरपा होगा, जरा सोचिए?
अभी एक शो में सैकड़ों बच्चे आडिशन से रह गए, तो उनके मां-बाप ने हंगामा मचा दिया। नतीजतन शो के आयोजकों को देर रात तक आॅडिशन लेने पड़े। बच्चों ने देर रात तक आॅडिशन दिए। आॅडिशन में चयन ना होने पर एक बालमन पर क्या गुजरती है, यह भी ये रियलिटी शोज दिखाते हैं, वे दिखाते हैं कि कैसे अनसलेक्टेड बच्चा स्टेज पर फूट-फूटकर रो रहा है। इससे वो क्या दिखाना चाहते हैं?...और इससे मां-बाप क्या सबक लेते हैं? यह एक सोचने का विषय है।
आडिशन में नाकाम होने वाले बच्चे ऐसे रोते हैं जैसे जिंदगी ही खत्म हो गई है और आॅडिशन में चुन लिए गए बच्चे इस तरह चिल्लाकर खुशी जाहिर करते हैं, मानो जिंदगी का लक्ष्य मिल गया हो। नाकाम बच्चों के आँसू दिखाए जाते हैं, जिन्हें देखकर नाकाम रहने वाले बच्चे और गहरी उदासी में चले जाते हैं और कुंठाग्रस्त हो जाते हैं।...और कुंठाग्रस्त बच्चा बड़ा होकर भला अपना या समाज का क्या भला कर सकता है, वो तो बचपन में ही मानसिक रूप से समाज के खिलाफ कर दिया जाता है।
छोटी उम्र के बच्चों को मॉडलिंग और टीवी सीरियल में सताए जाने के खिलाफ एक अभियान चला भी था। मगर यह सिर्फ मंत्रालयों के पत्रों और बयानों तक सिमटकर रह गया।...मगर अब आवश्यक्ता है दर्शक वर्ग को जागने की, अब दर्शकों को ही कुछ सोचना होगा, नहीं तो रियलिटी शोज कब रियल जिन्दगी में आ धमकेगें, पता भी नहीं चलेगा। दर्शकों को चाहिए कि ऐसे शोज को बढ़ावा ना दें जिनमें अप्रत्यक्षरूप से ही सही, बच्चों पर अत्याचार होता हो।
ध्यान रहे, ऐसे शोज महज टीआरपी पर टिके होते हैं, जो दर्शकों के देखे जाने की गणना करती है, यानी आप ऐसे धारावाहिक या शो नहीं देखेगें तो वो ज्यादा दिन नहीं चल पायेगें।
मेरी राय में तो ऐसे शोज की तैयारी भी बालश्रम के अन्तर्गत ही आनी चाहिए क्योंकि यह सब भी नाम और पैसे के लिए ही होता है। फर्क सिर्फ इतना है कि गरीब का बच्चा सीधा-सीधा श्रम करता दिखाई देता है जबकि पढ़े-लिखे और अमीर का बच्चा अपरोक्ष रूप से बालश्रम को भोगता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लालचंद कटारिया के केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री बनने पर कोटपूतली में हर्ष का माहौल, बांटी मिठाइयां

लालचंद कटारिया के केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री बनने पर कोटपूतली में हर्ष का माहौल, बंटी मिठाइयां कोटपूतली। जयपुर ग्रामीण सांसद व जयपुर जिला देहात कांग्रेस कमेटी के जिलाध्यक्ष लालचन्द कटारिया को देश का नया रक्षा राज्यमंत्री बनाया गया है। कटारिया ने रविवार को राष्ट्रपति भवन के सेन्ट्रल हाल में पद व गोपनीयता की शपथ ली जहा उन्हे राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के जरिये पद व गोपनीयता की शपथ दिलवाई। कटारिया को केंन्द्र सरकार में नई जिम्मेदारी मिलने पर कोटपूतली सहित पूरे जयपुर ग्रामीण क्षेत्र में हर्ष की लहर दौड़ गई है। कटारिया के मंत्री बनने पर कांग्रेस ओबीसी प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष व पीसीसी मैम्बर राजेन्द्र सिंह यादव ने कहा कि आला कमान ने सांसद कटारिया की योग्यताओ को व काबीलियत को देखते हुए उन्हे रक्षा मंत्रालय की बागडोर सौपी है। उम्मीद है कि कटारिया राष्ट्रहित में रक्षा मंत्रालय को नये मुकाम पर पहुचायेगें।        स्थानीय कांग्रेस कार्यालय पर रविवार प्रातः कांग्रेसी कार्यकर्ताओ ने यादव को बधाई दी, एंव इसके उपरान्त पीसीसी मैम्बर राजेन्द्र सिंह यादव के नेत

किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते

  किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते ... कहते हैं हाथों की लकीरों पर भरोसा मत कर , किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते। जी हां , इस कथनी को करनी में बदल दिया है राजस्थान की कोटपूतली तहसील के नारेहड़ा गांव की 14 वर्षीय मुखला सैनी ने। मुखला को कुदरत ने जन्म से ही हाथ नहीं दिये , लेकिन मुखला का हौसला , जज्बा और हिम्मत देखिए , उसने ‘ करत-करत अभ्यास के जड़मत होत सुजान ’ कहावत को भी चरितार्थ कर दिखाया है , अब वह अपने पैरों की सहायता से वह सब कार्य करती है जो उसकी उम z के अन्य सामान्य बच्चे करते हैं। कुदरत ने मुखला को सब कुछ तो दिया , लेकिन जीवन के जरूरी काम-काज के लिए दो हाथ नहीं दिये। बिना हाथों के जीवन की कल्पना करना भी बहुत कठिन है , लेकिन मुखला ने इसे अपनी नियति मान कर परिस्थितियों से समझौता कर लिया है। हाथ नहीं होने पर अब वह पैरों से अपने सारे काम करने लग गई है। पढ़ने की ललक के चलते मुखला पैरों से लिखना सीख गई है और आठवीं कक्षा में पहुंच गई है। मुखला को पैरों से लिखते देखकर हाथ वालों को भी कुछ कर दिखाने की प्रेरणा लेनी चाहिए। 14

कोरोना को हराकर लौटे गोयल, समर्थकों ने जताई खुशी

न्यूज चक्र, कोटपूतली। भाजपा नेता मुकेश गोयल की कोरोना रिर्पोट नेगेटिव आ गई है। गोयल ने अपने प्रशंसको के लिए यह जानकारी खुद सोशल मीडिया पर शेयर की है। गोयल के कोरोना पर जीत हासिल कर लौटने पर समर्थकों ने खुशी जाहिर की है। आपको बता दें कि भाजपा नेता मुकेश गोयल गत 14 सितम्बर से ही अस्वस्थ चल रहे थे और जयपुर के दुर्लभजी अस्पताल में उपचार ले रहे थे। गोयल की 24 सितम्बर को कोरोना रिर्पोट पाॅजिटिव पाई गई थी। फिलहाल गोयल स्वस्थ हैं और कोरोना रिर्पोट भी नेगेटिव आ गई है। लेकिन फिलहाल चिकित्सकीय सलाह पर एक सप्ताह के लिए होम आइसोलेशन रहेगें। समर्थकों ने किया हवन, मांगी दिर्घायू भाजपा नेता मुकेश गोयल के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना को लेकर लक्ष्मीनगर स्थित श्रीराम मंदिर में भाजपा कार्यकर्ता व समर्थक हवन का आयोजन कर पूजा अर्चना भी कर रहे थे। गोयल के स्वस्थ होकर कोटपूतली निवास पर लौट आने पर सर्मथकों ने खुशी जाहिर की है। आपको बता दें कि अपने विभिन्न सामाजिक कार्यों में भागीदारी के चलते मुकेश गोयल समर्थकों के दिलों में जगह बनाए हुए हैं।