सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप क्या खाना चाहेगें... 2000 रूपये किलो का गुटखा या 400 रूपये किलो के बादाम

    जी हां, सही पूछ रहा हूं मैं। अपने आसपास लोगों को देखिए या फिर अपने आपको देखिए, क्या खा रहे हैं आप?....गुटखा, तम्बाकू, सिगरेट, पान, जर्दा या फल, मेवे, सब्जी!
    आपको भले ही यह आश्चर्य लगे, लेकिन यह सच है कि अगर आप गुटखा खाते हैं तो आप ‘2000 रू.किलो की वस्तु को कुछ देर मुंह में रखकर थूक देते हैं।’ क्योंकि एक गुटखे का पाउच 2 से 12 रू का आता है और उसमें 2 से 4 गzाम वजन होता है। हां यह बात अलग है कि वह एक पैकेट आपके गाल, दांत, होंठ, जबड़े या आंखों को नुकसान पहुंचाता है, कईयों को तो कैंसर तक हो जाता है। मेरी बात पर यकीन ना आये तो एक बार जयपुर के महावीर कैंसर अस्पताल के किसी वार्ड में घूम आइये। आपको यकीन ही नहीं बल्कि विश्वास भी हो जाएगा कि आप बादाम, काजू जैसे मेवे खाने वाले लागों से दिलदार आदमी हैं। आप कैंसर अस्पताल के किसी वार्ड में घूमेगें तो इतना तो जान ही लेगें कि तम्बाकू- गुटखे से आपका गाल गल सकता है, उसमें कीड़े लग सकते हैं। ठीक वैसे ही जैसे गली में आवारा घूमते किसी जानवर के कान या गर्दन पर लगे होते हैं। आपका जबड़ा आपका साथ छोड़ सकता है। आपकी जीभ बेस्वाद होकर आपका बोलना भी बंद कर सकती है। ...लेकिन यह सब मैं आपको क्यूं बता रहा हूं यह तो आप खुद अस्पताल में घूमेंगे तो जान ही जाएगें। खैर मैं तो यह कह रहा था कि इतना सब देखने के बाद आप गुटखा, तम्बाकू, सिगरेट या जर्दा छोड़ना तो चाहेगें नहीं, क्योंकि छोड़ते तो बहुत पहले ही छोड़ देते, आखिर खाते ही क्यों और फिर कोई चीज छोड़ने के लिए थोड़े ही अपनाई जाती है। वैसे आप शीशा ;दर्पणद्ध तो रोज देखते होगें।...और आपके लाल-पीले दांत भी आपको दर्पण में रोज चिड़ाते होगें।...बस फिर ठीक है जब आपको दर्पण में अपना सड़ा-गला चेहरा देखकर ही शर्म नहीं आती तो भला अस्पताल घूम आने से आपको क्या फर्क पड़ेगा। आप तो खाते रहिए, आंख और मुंह बंद करके, बस। वैसे भी इस दुनिया से एक ना एक दिन तो जाना ही होता है, और फिर दुनिया भी तो पापी हो चली है। इस पापी दुनिया में क्यूं ज्यादा दिन टिकना। लोग वैसे तो मरने नहीं देते। गुटखा-तम्बाकू का सहारा है यह भी मेरे जैसे लोग छीन लेना चाहते हैं तो फिर क्यूं इस दुनिया में टिकने के ख्वाब देखना।
    अब देखो ना, अगर बादाम, अखरोट, काजू, सेब, संतरे, केले जैसी चीज खाएगें तो मोटे हो जाएगें, तदंुरस्त रहेगें और तंदुरस्त रहेगें तो कम्बख्त बुढ़ापा भी देर से आएगा और अगर बुढ़ापा देर से आया तो कमाना भी ज्यादा दिन पड़ेगा और इस मंहगाई के जमाने में कमायें कब तक?
    फिर तो यही ठीक है कि 12रू का एक गुटखा 3 मिनट में खायें पूरे दिन में 15-20 गुटखे मुंह में उड़ेलकर थूके और धरती को लाल करें, अपने दांत, होंठ व गाल लाल करें कम्बख्त वैसे तो लाल होते नहीं और महंगाई को ठेंगा दिखाकर बीपीएल के गेंहू खायें और जल्दी-जल्दी 25-30 साल पूरे कर दुनिया से चले जाएं। ...तो साहब सोच-समझकर तय कीजिएगा कि क्या खाना चाहेंगें आप 2000 रूपये किलो का गुटखा या 400 रूपये किलो के बादाम? तय करते समय यह भी ध्यान रखिएगा कि बूंद-बूंद से ही घड़ा भरता भी है और बूंद-बूंद से ही घड़ा खाली भी होता है।

यहां आप अपनी टिप्पणी अवश्य छोड़े। धन्यवाद।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लालचंद कटारिया के केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री बनने पर कोटपूतली में हर्ष का माहौल, बांटी मिठाइयां

लालचंद कटारिया के केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री बनने पर कोटपूतली में हर्ष का माहौल, बंटी मिठाइयां कोटपूतली। जयपुर ग्रामीण सांसद व जयपुर जिला देहात कांग्रेस कमेटी के जिलाध्यक्ष लालचन्द कटारिया को देश का नया रक्षा राज्यमंत्री बनाया गया है। कटारिया ने रविवार को राष्ट्रपति भवन के सेन्ट्रल हाल में पद व गोपनीयता की शपथ ली जहा उन्हे राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के जरिये पद व गोपनीयता की शपथ दिलवाई। कटारिया को केंन्द्र सरकार में नई जिम्मेदारी मिलने पर कोटपूतली सहित पूरे जयपुर ग्रामीण क्षेत्र में हर्ष की लहर दौड़ गई है। कटारिया के मंत्री बनने पर कांग्रेस ओबीसी प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष व पीसीसी मैम्बर राजेन्द्र सिंह यादव ने कहा कि आला कमान ने सांसद कटारिया की योग्यताओ को व काबीलियत को देखते हुए उन्हे रक्षा मंत्रालय की बागडोर सौपी है। उम्मीद है कि कटारिया राष्ट्रहित में रक्षा मंत्रालय को नये मुकाम पर पहुचायेगें।        स्थानीय कांग्रेस कार्यालय पर रविवार प्रातः कांग्रेसी कार्यकर्ताओ ने यादव को बधाई दी, एंव इसके उपरान्त पीसीसी मैम्बर राजेन्द्र सिंह यादव के नेत

किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते

  किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते ... कहते हैं हाथों की लकीरों पर भरोसा मत कर , किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते। जी हां , इस कथनी को करनी में बदल दिया है राजस्थान की कोटपूतली तहसील के नारेहड़ा गांव की 14 वर्षीय मुखला सैनी ने। मुखला को कुदरत ने जन्म से ही हाथ नहीं दिये , लेकिन मुखला का हौसला , जज्बा और हिम्मत देखिए , उसने ‘ करत-करत अभ्यास के जड़मत होत सुजान ’ कहावत को भी चरितार्थ कर दिखाया है , अब वह अपने पैरों की सहायता से वह सब कार्य करती है जो उसकी उम z के अन्य सामान्य बच्चे करते हैं। कुदरत ने मुखला को सब कुछ तो दिया , लेकिन जीवन के जरूरी काम-काज के लिए दो हाथ नहीं दिये। बिना हाथों के जीवन की कल्पना करना भी बहुत कठिन है , लेकिन मुखला ने इसे अपनी नियति मान कर परिस्थितियों से समझौता कर लिया है। हाथ नहीं होने पर अब वह पैरों से अपने सारे काम करने लग गई है। पढ़ने की ललक के चलते मुखला पैरों से लिखना सीख गई है और आठवीं कक्षा में पहुंच गई है। मुखला को पैरों से लिखते देखकर हाथ वालों को भी कुछ कर दिखाने की प्रेरणा लेनी चाहिए। 14

कोरोना को हराकर लौटे गोयल, समर्थकों ने जताई खुशी

न्यूज चक्र, कोटपूतली। भाजपा नेता मुकेश गोयल की कोरोना रिर्पोट नेगेटिव आ गई है। गोयल ने अपने प्रशंसको के लिए यह जानकारी खुद सोशल मीडिया पर शेयर की है। गोयल के कोरोना पर जीत हासिल कर लौटने पर समर्थकों ने खुशी जाहिर की है। आपको बता दें कि भाजपा नेता मुकेश गोयल गत 14 सितम्बर से ही अस्वस्थ चल रहे थे और जयपुर के दुर्लभजी अस्पताल में उपचार ले रहे थे। गोयल की 24 सितम्बर को कोरोना रिर्पोट पाॅजिटिव पाई गई थी। फिलहाल गोयल स्वस्थ हैं और कोरोना रिर्पोट भी नेगेटिव आ गई है। लेकिन फिलहाल चिकित्सकीय सलाह पर एक सप्ताह के लिए होम आइसोलेशन रहेगें। समर्थकों ने किया हवन, मांगी दिर्घायू भाजपा नेता मुकेश गोयल के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना को लेकर लक्ष्मीनगर स्थित श्रीराम मंदिर में भाजपा कार्यकर्ता व समर्थक हवन का आयोजन कर पूजा अर्चना भी कर रहे थे। गोयल के स्वस्थ होकर कोटपूतली निवास पर लौट आने पर सर्मथकों ने खुशी जाहिर की है। आपको बता दें कि अपने विभिन्न सामाजिक कार्यों में भागीदारी के चलते मुकेश गोयल समर्थकों के दिलों में जगह बनाए हुए हैं।