सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कृपया ध्यान दें, लापरवाही ठीक नहीं, दांत नही, तो कुछ नहीं

क्या आपने कभी अपने टूथब्रश के चुनाव के बारे में सोचा है! सामान्यतया लोग टूथब्रथ का चुनाव एवं खरीददारी उसके रंग, डिजाइन अथवा टीवी पर दिखाये जाने वाले विज्ञापनों के आधार पर करते हैं। टूथब्रश कार्य आपके प्रत्येक दांत तक पहुंचना तथा उन्हें पूरी दक्षता के साथ साफ करना होता है। एक सही टूथब्रश का उपयोग आपके मुंह की हाइजीन तथा पाइरिया की रोकथाम की तरफ बढ़ाया गया पहला कदम है। वहीं एक खराब ब्रश आपके दांतों की ठीक प्रकार से सफाई नहीं कर पाता एवं मात्र ओपचारिकता बनकर रह जाता है। यह कहना है डेन्टल सर्जन डॉ. कृष्ण कुमार का। डॉ. कृष्ण यहां आर्मी दि फेमिली डेन्टल केयर के उद्घाटन अवसर पर बोल रहे थे।


डॉ. कृष्ण ने आगे बताया कि एक नरम ब्रिसल्स ;टूथब्रश के बालद्ध वाला टूथब्रश उपयोग करना उचित होता है। सख्त ब्रिसल्स युक्त ब्रश आपके मसूड़ों को नुकसान पहुंचाता है। नरम ब्रिसल्स ज्यादा लचिले होते हैं जो दांत एवं मसूड़ों के बीच की जगह में भी पहुंचकर साफ करते हैं। टूथब्रश का सिर छोटा होना चाहिए, छोटा सिर आपके मुंह के प्रत्येक कोने में पहुंचकर सफाई करता है। टूथब्रश का हेन्डल ऐसा होना चाहिए जो ब्रश पकड़ते समय आरामदायक हो, तथा साथ ही आपको अपना ब्रश हर 3 महीने के अन्तराल में बदल लेना चाहिए। यह इस बात का ध्यान रखें कि अगर आपके ब्रश के ब्रिसल्स कुछ ही हतों में घिस जाते हैं तो आप बहुत उग्रता से ब्रश करते हो। बहुत तेज एवं उग्रता से ब्रश करने से आपके मसूड़ों को हानि पहुंच सकती है। इससे मसूड़े दांत की सतह से हट जाते हैं एवं दांतों की जड़े निकल आती हैं। दूसरी ओर अगर आपके ब्रशल्स 5 से 6 महिने के बाद भी खराब होने का संकेत नहीं देते तो आप अत्यधिक कोमलता से ब्रश करते हैं।

आजकल बाजार में कलरकोडेड ब्रश भी उपलब्ध हैं, इन ब्रश में ब्रिशल्स का बदलता रंग नया ब्रश लेने का संकेत देता है। एक ओर महत्वपूर्ण बात जिससे ज्यादातर लोग अनभिज्ञ होते हैं कि सर्दी, जुकाम, लू, गले की खंरास तथा अन्य मुंह के इन्फेक्सन के बाद ब्रश बदलना चाहिए, पहले वाले ब्रश का उपयोग इन इन्फेक्शन के पुनः एंव बार बार होने का कारण बन सकता है।

मुंह एवं दांतों के स्वास्थ्य से संबंधित आपके सवाल आप 9352167899 नम्बर पर एसएमएस कर सकते हैं।

टिप्पणियाँ

  1. प्रायः सभी दन्त चिकित्सक इसी तरह की सलाह देते हैं. लेकिन प्रायः लोग ब्रश बदलने में लापरवाही कर देते हैं. ( मैं भी)

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लालचंद कटारिया के केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री बनने पर कोटपूतली में हर्ष का माहौल, बांटी मिठाइयां

लालचंद कटारिया के केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री बनने पर कोटपूतली में हर्ष का माहौल, बंटी मिठाइयां कोटपूतली। जयपुर ग्रामीण सांसद व जयपुर जिला देहात कांग्रेस कमेटी के जिलाध्यक्ष लालचन्द कटारिया को देश का नया रक्षा राज्यमंत्री बनाया गया है। कटारिया ने रविवार को राष्ट्रपति भवन के सेन्ट्रल हाल में पद व गोपनीयता की शपथ ली जहा उन्हे राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के जरिये पद व गोपनीयता की शपथ दिलवाई। कटारिया को केंन्द्र सरकार में नई जिम्मेदारी मिलने पर कोटपूतली सहित पूरे जयपुर ग्रामीण क्षेत्र में हर्ष की लहर दौड़ गई है। कटारिया के मंत्री बनने पर कांग्रेस ओबीसी प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष व पीसीसी मैम्बर राजेन्द्र सिंह यादव ने कहा कि आला कमान ने सांसद कटारिया की योग्यताओ को व काबीलियत को देखते हुए उन्हे रक्षा मंत्रालय की बागडोर सौपी है। उम्मीद है कि कटारिया राष्ट्रहित में रक्षा मंत्रालय को नये मुकाम पर पहुचायेगें।        स्थानीय कांग्रेस कार्यालय पर रविवार प्रातः कांग्रेसी कार्यकर्ताओ ने यादव को बधाई दी, एंव इसके उपरान्त पीसीसी मैम्बर राजेन्द्र सिंह यादव के नेत

किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते

  किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते ... कहते हैं हाथों की लकीरों पर भरोसा मत कर , किस्मत तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते। जी हां , इस कथनी को करनी में बदल दिया है राजस्थान की कोटपूतली तहसील के नारेहड़ा गांव की 14 वर्षीय मुखला सैनी ने। मुखला को कुदरत ने जन्म से ही हाथ नहीं दिये , लेकिन मुखला का हौसला , जज्बा और हिम्मत देखिए , उसने ‘ करत-करत अभ्यास के जड़मत होत सुजान ’ कहावत को भी चरितार्थ कर दिखाया है , अब वह अपने पैरों की सहायता से वह सब कार्य करती है जो उसकी उम z के अन्य सामान्य बच्चे करते हैं। कुदरत ने मुखला को सब कुछ तो दिया , लेकिन जीवन के जरूरी काम-काज के लिए दो हाथ नहीं दिये। बिना हाथों के जीवन की कल्पना करना भी बहुत कठिन है , लेकिन मुखला ने इसे अपनी नियति मान कर परिस्थितियों से समझौता कर लिया है। हाथ नहीं होने पर अब वह पैरों से अपने सारे काम करने लग गई है। पढ़ने की ललक के चलते मुखला पैरों से लिखना सीख गई है और आठवीं कक्षा में पहुंच गई है। मुखला को पैरों से लिखते देखकर हाथ वालों को भी कुछ कर दिखाने की प्रेरणा लेनी चाहिए। 14

कोरोना को हराकर लौटे गोयल, समर्थकों ने जताई खुशी

न्यूज चक्र, कोटपूतली। भाजपा नेता मुकेश गोयल की कोरोना रिर्पोट नेगेटिव आ गई है। गोयल ने अपने प्रशंसको के लिए यह जानकारी खुद सोशल मीडिया पर शेयर की है। गोयल के कोरोना पर जीत हासिल कर लौटने पर समर्थकों ने खुशी जाहिर की है। आपको बता दें कि भाजपा नेता मुकेश गोयल गत 14 सितम्बर से ही अस्वस्थ चल रहे थे और जयपुर के दुर्लभजी अस्पताल में उपचार ले रहे थे। गोयल की 24 सितम्बर को कोरोना रिर्पोट पाॅजिटिव पाई गई थी। फिलहाल गोयल स्वस्थ हैं और कोरोना रिर्पोट भी नेगेटिव आ गई है। लेकिन फिलहाल चिकित्सकीय सलाह पर एक सप्ताह के लिए होम आइसोलेशन रहेगें। समर्थकों ने किया हवन, मांगी दिर्घायू भाजपा नेता मुकेश गोयल के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना को लेकर लक्ष्मीनगर स्थित श्रीराम मंदिर में भाजपा कार्यकर्ता व समर्थक हवन का आयोजन कर पूजा अर्चना भी कर रहे थे। गोयल के स्वस्थ होकर कोटपूतली निवास पर लौट आने पर सर्मथकों ने खुशी जाहिर की है। आपको बता दें कि अपने विभिन्न सामाजिक कार्यों में भागीदारी के चलते मुकेश गोयल समर्थकों के दिलों में जगह बनाए हुए हैं।